Brief history of time by Stephen Hawking in Hindi समय का संक्षिप्त इतिहास

Brief history of time by Stephen Hawking in Hindi समय का संक्षिप्त इतिहास

Share

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

Recommended

Brief history of time by Stephen Hawking in Hindi समय का संक्षिप्त इतिहास
  • Brief history of time by Stephen Hawking in Hindi
  • समय का संक्षिप्त इतिहास
  • अनुवादक क� ओर से सृि� की रचना के �योजन को जानने की उ��ा अित �ाचीनकाल से मानविच�न को झकझोरती रही है। इस रह� को जानने की िज�ासा ने स�ता के शैशवकाल से ही बौ��क िवकास के साथ-साथ सम� दाशिनक िच�न को िदशािनदिशत िकया है। ��ा� की उ�ि� िकस �कार �ई, यह कहाँ से आया, �ा यह सदैव से अ��� मथा या इसका कोई रचियता है, �ा िव�-पटल पर बु��जीवी मनु� का �ादुभाव मा� एक सांयोिगक घटना है अथवा मनु� के िलए ��ा� की रचना की गई, आिद अनेक ऐसे गूढ़ �� ह िजनके िववेचन के िलए शा�ों की रचना की गई। ऐसा लगता है, अित �ाचीनकाल म भारत के (म���ा) ऋिष अपनी आ�ा��क �मताओं को िवकिसत करके ऐसे िन�ष� पर प�ँचे जो आधुिनक समय म ��ािवत ��ा� के िविभ� मॉडेलों के काफी अनु�प ह। यह िन�य ही एक सुखद आ�य है। भारतीय वाङ् मय म अनेक ऐसे �संग िबखरे पड़े ह िजनम एक दोलनकारी ��ा� की क�ना की गई है। िव�ान के िवकास के साथ ही ��ा� के िवकास की परतखुलती जा रही ह। अब हम ��ा� की उ�ि� से जुड़े कुछ नए ग�ीर ��ों के समाधान ढूँढ़ते �ए सृि� की रचना के �ार��क पलों तक जा प�ँचे ह िजससे आगे बढ़ने पर िव�ान के िनयम िवफल हो जाते ह तथा हमारी समझ की सीमा िनधा�रत हो जाती है। ‘ए �ीफ िह�ी ऑफ टाइम’ ��ा��की के िवकास का एक संि�� द�ावेज है। यह �ार��क भू-के��क ��ा��िकयों से �ार� करके बाद की सूय-के��क ��ा��िकयों से होते �ए एक अन� ��ा� अथवा अन� �प से िव�ृत अनेक ��ा�ों तथा कृिम-िछ�ों की प�रक�नाओं तक की हमारी िवकास-या�ा का एक संि�� वणन है। ��ा� िवल�णता की ��थित से �ार� �आ या िदक्-काल की कोई सीमा है अथवा नहीं, या पूरी तरह से �यंपूण (self-contained) है तथा अपने से बाहर िकसी भी व� के �ारा �भािवत नहीं होता तथा इस �कार यह पूणतः शा�त है, आिद ऐसे अनेक िवचार ह जो अपने प� म ठोस �माण ��ुत करते ह। पर�ु चाहे यह िकसी भी �कार से �ार� �आ हो, ऐसा �ों है िक यह उन िनयमों तथा िस�ा�ों से िनय��त है िज� हम समझ सकते ह?